इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल आफ शिमला में दूसरे दिन इरान कोरिया अमेरिका और नेपाल की दिखाई गई फिल्में

Sat , 27 Nov 2021, 6:18 pm
इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल आफ शिमला में दूसरे दिन इरान कोरिया अमेरिका और नेपाल की दिखाई गई फिल्में

शिमला। तीन दिवसीय इंटरनेशनल फेस्टिवल ऑफ शिमला में दूसरे दिन इरान के निर्देशक हसन नजमावदी की शॉर्ट फिल्म अपारत की स्क्रीनिंग हुई।
 
कोरिया के निर्देशक 'मैथ्यु 'की 'लैंड ऑफ माय फादर की स्क्रीनिंग हुई और इसके निर्देशक मैथ्यू भी दर्शकों से मुखातिब हुए। अमेरिका की शॉर्ट फिल्म 'ऊंच नीच' और नेपाल में पोलीएंड्री  पर आधारित फिल्म 'को हस्बैंड सहायक श्रीमान' प्रदर्शित की गई।
 
अहमदाबाद की 'प्रभाती आनंद' की पहाड़ी शार्ट फिल्म 'झट आई बसंत' दर्शकों द्वारा खूब सराही गई। 'झट  आई बसंत' फिल्म धर्मशाला में बनी फिल्म है, जिसमें दो अलग-अलग पृष्ठभूमि की लड़कियों का पितृसत्ता के खिलाफ संघर्ष दिखाया गया है। 
 
मानसिक रूप से विक्षिप्त लड़कियों में मासिक धर्म के दौरान आने वाली मुश्किलों पर आधारित मराठी फिल्म 'लाल' के निर्देशक सुमित पाटिल ने दर्शकों से चर्चा के दौरान स्पेशल बच्चों को आने वाली दिक्कतों से अवगत करवाया। सुमित पाटिल ' ने चर्चा के दौरान दर्शकों से मराठी सिनेमा के बारे में भी विस्तार से बात की। फेस्टिवल में तीन फीचर फिल्मों की भी स्क्रीनिंग हुई।
 
उड़ीसा के निर्देशक पिनाकी सिंह की 'दालचीनी' मुंबई में हिमाचल के रहने वाले 'रूपेंद्र सिंह, की फीचर फिल्म स्वीपर और केरल के निर्देशक की 'ट्रीज इन ड्रीम्स'फीचर फिल्मों ने दर्शकों को खूब सराहा।
 
 हिमाचल के निर्देशक स्वर्गीय अभिषेक शर्मा द्वारा निर्देशित शॉर्ट फिल्म "अ मैन  एंड हिज शूज" को दर्शकों ने खूब सराहा। यह फिल्म एक ऐसे टीचर की है,जिसके जूते फट जाते हैं, और नए जूते लेने में वह असमर्थ है।
 
शिमला के सेंट एडवर्ड के तीसरी कक्षा के छात्र 'अर्जुन लोथेटा' की फ़िल्म को दर्शकों ने खूब सराहा। यह फिल्म हमारी परंपराओं में व्याप्त कुरीतियों को उजागर करती है और पीढ़ियों के बीच परंपराओं के बदलाव की ओर सबका ध्यान आकर्षित करती है।
 
मुंबई के निर्देशक ' जतिन चानमा ' की शॉर्ट फिल्म 'द अननोन नंबर ' कोरोना महामारी के कारण अपने परिवार के सदस्यों को खो चुके लोगों की तकलीफ को बयां करती है।
 
फिल्म स्क्रीनिंग के अलावा फेस्टिवल के दूसरे दिन भी ओपन फोरम का आयोजन किया गया। जिसमें देशभर के अलग-अलग प्रांतों से आए कुल 10 फिल्म निर्देशकों ने हिस्सा लिया, और विभिन्न कॉलेजों के छात्रों ने फिल्म निर्माण संबंधी बारीकियों के बारे में जाना।
 
गौरतलब है कि गेयटी थिएटर शिमला में तीन दिवसीय इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ शिमला का आयोजन किया जा रहा है जिसमें देश विदेश की फिल्मों की स्क्रीनिंग की जा रही है। 
 
इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ शिमला के सातवें संस्करण का आयोजन हिमालय वेलोसिटी और भाषा कला एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वाधान में किया।

अंतरराष्ट्रीय ख़बरें
Scroll To Top